Internet Kya Hai इंटरनेट क्या है, इंटरनेट का इतिहास और तथ्य

Internet Kya Hai, इंटरनेट मानव इतिहास की एक ऐसी खोज जिसने आज के वर्तमान को इतिहास से बहुत अलग बना दिया है और आने वाले समय में भी यह और विकसित और विस्तृत होने वाला है।

इंटरनेट आज के जीवन की सबसे बड़ी जरूरत है जो हमारे लिए सबसे जरूरी चीज भोजन से भी महत्वपूर्ण हो गया है, इसलिए आप में से बहुत से लोगों के मन में इंटरनेट के प्रति जिज्ञासा पैदा होती होगी।

Hello Dosto, स्वागत है आप सभी का हमारे ब्लॉग पर… आज हम बात करने जा रहे है इंटरनेट के बारे में इंटरनेट क्या है Internet Kya Hai, और इंटरनेट का इतिहास हिंदी में, साथ ही इंटरनेट के फायदे तथा नुकसान और इससे जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में।

Internet Kya Hai –

Internet Kya Hai, Internet In Hindi, इंटरनेट, दुनियाभर में मौजूद कंप्यूटरों का एक विश्वव्यापी नेटवर्क है, हिंदी में इसे “अंतरजाल” और अंग्रेजी में “Internet” कहा जाता है।

इस नेटवर्क में सर्वर, सुपर कंप्यूटर और आपका स्मार्टफोन या कंप्यूटर सभी मिलकर एक कनेक्शन बनाते है, जिसके बाद डाटा एक जगह से दूसरे जगह ट्रैवल कर पता है।

यह पूरी दुनिया में फैला, विश्व का सबसे बड़ा नेटवर्क है, दूसरे शब्दों यह कहा जा सकता है कि इंटरनेट विश्व का सबसे बड़ा नेटवर्क है जिसमें बहुत सारे कंप्यूटर आपस में कनेक्टेड है।

यह बहुत सारे छोटे-छोटे नेटवर्कों का एक समूह है इसलिए इसे को ‘नेटवर्कों का नेटवर्क’ भी कहा जाता है।

इंटरनेट से कनेक्टेड व्यक्ति इंटरनेट का प्रयोग करके, दुनिया के किसी भी कोने में मौजूद रहकर कहीं से भी कोई भी जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकता है।

इंटरनेट के बिना आज के समय में हम साधारण जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते है, हमारे फोन, कंप्यूटर और अन्य डिवाइसेस जो इंटरनेट का प्रयोग करती है, वे एक खिलौना बनकर रह जाएंगे।

Internet Kya Hai
Internet Kya Hai

इंटरनेट का इतिहास –

Internet Kya Hai, 1960 के दशक में, अमेरिका के अग्रणी शीत युद्ध थिंक-टैंक “रैंड कॉरपोरेशन” को एक अजीब रणनीतिक समस्या का सामना करना पड़ा।

यदि किसी कारणवश परमाणु युद्ध होते है तो युद्ध के बाद अमेरिकी अधिकारी सफलतापूर्वक एक दूसरे से सैकड़ों हजारों किलोमीटर दूर रहकर संवाद कैसे कर सकते थे?

ऐसे हमलों के बाद अमेरिका को एक कमांड-एंड-कंट्रोल नेटवर्क की आवश्यकता होगी, जो एक शहर से दूसरे शहर, एक राज्य से दूसरे राज्य, बेस से बेस तक जुड़ा हो।

लेकिन परमाणु बम में इतनी ताकत होती है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई नेटवर्क कितनी अच्छी तरह से बख्तरबंद या सुरक्षित हो।

उसके स्विच और वायरिंग हमेशा परमाणु बमों के प्रभाव के प्रति संवेदनशील रहेंगे, एक परमाणु हमला वर्तमान में (1960 का दशक) मौजूद किसी भी नेटवर्क को नष्ट कर देगा।

और नेटवर्क को कैसे कमांड और नियंत्रित किया जाएगा? कोई भी केंद्रीय प्राधिकरण, कोई भी नेटवर्क केंद्रीय गढ़, दुश्मन मिसाइल के लिए एक स्पष्ट और तत्काल लक्ष्य होगा। नेटवर्क का केंद्र जाने वाला पहला स्थान होगा।

रैंड (RAND Corporation) ने गहरी सैन्य गोपनीयता में इस गंभीर पहेली पर विचार किया, और एक साहसी समाधान पर पहुंचे, RAND प्रस्ताव (RAND कर्मचारी पॉल बारन के दिमाग की उपज) को 1964 में सार्वजनिक किया गया था।

सबसे पहले, नेटवर्क में *कोई केंद्रीय प्राधिकरण नहीं होगा।* इसके अलावा, इसे *शुरुआत से ही जर्जर स्थिति में संचालित करने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा।*

काफी सोच विचार के बाद कंप्यूटर वैज्ञानिकों ने इलेक्ट्रॉनिक डेटा संचारित करने की एक विधि बनाई जिसे “पैकेट स्विचिंग” कहा जाता है।

सिद्धांत बहुत सरल था कि, नेटवर्क को हर समय अविश्वसनीय माना जाएगा, इसे आरंभ से ही अपनी अविश्वसनीयता से परे जाने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा।

नेटवर्क में सभी नोड्स अन्य सभी नोड्स की स्थिति के बराबर होंगे, प्रत्येक नोड के पास संदेश उत्पन्न करने, पास करने और प्राप्त करने का अपना अधिकार होगा।

ARPANET (एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी नेटवर्क) ने एक ही नेटवर्क पर कई कंप्यूटरों को जोड़ने के लिए पैकेट स्विचिंग का उपयोग किया, जिसमें साथ कई कंप्यूटर एक ही नेटवर्क पर एक दूसरे के साथ संचार करने में सक्षम थे।

इस सिस्टम में संदेशों को स्वयं पैकेटों में विभाजित किया जाएगा, प्रत्येक पैकेट को अलग से संबोधित किया जाएगा। Internet In Hindi

प्रत्येक पैकेट कुछ निर्दिष्ट स्रोत नोड पर शुरू होगा, और कुछ अन्य निर्दिष्ट गंतव्य नोड पर समाप्त होगा।

प्रत्येक पैकेट व्यक्तिगत आधार पर नेटवर्क के माध्यम से अपना रास्ता बनाएगा, पैकेट ने जो विशेष मार्ग अपनाया वह महत्वहीन होगा, केवल अंतिम परिणाम ही गिने जायेंगे।

मूल रूप से, पैकेट को (पैन में गर्म आलू या नूडल्स की तरह) एक नोड से दूसरे नोड तक, कमोबेश अपने गंतव्य की दिशा में तब तक उछाला जाएगा, जब तक कि वह उचित स्थान पर न पहुंच जाए।

यदि बम के द्वारा नेटवर्क के बड़े हिस्से उड़ा दिए जाएं, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि जो पैकेट (डेटा) अभी भी डिलीवर नहीं हुए है वे हवा में ही रहेंगे(मतलब वे पूरे नेटवर्क में किसी न किसी रास्ते में रहेंगे), जिसे अंतिम कशोर तक के लिए जो भी नोड उपलब्ध होंगे, उनके द्वारा पूरे क्षेत्र में बेतहाशा फैला दिया जाएगा।

यह अव्यवस्थित (विकेंद्रिकृत) वितरण प्रणाली सामान्य अर्थों में “अक्षम” हो सकती है (विशेष रूप से टेलीफोन प्रणाली की तुलना में) – लेकिन यह बेहद मजबूत होगी।

60 के दशक के दौरान, विकेंद्रीकृत, ब्लास्टप्रूफ़, पैकेट-स्विचिंग नेटवर्क की इस दिलचस्प अवधारणा को RAND, MIT और UCLA द्वारा शुरू किया गया था।

ग्रेट ब्रिटेन में राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला ने 1968 में इन सिद्धांतों पर पहला परीक्षण नेटवर्क स्थापित किया।

कुछ ही समय बाद, पेंटागन की एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी ने संयुक्त राज्य अमेरिका में एक बड़ी, अधिक महत्वाकांक्षी परियोजना को वित्तपोषित करने का निर्णय लिया।

इस नेटवर्क के नोड्स हाई-स्पीड सुपर कंप्यूटर (उस समय के हिसाब से) होने चाहिए थे।

उस समय हाई-स्पीड सुपर कंप्यूटर, दुर्लभ और मूल्यवान मशीनें थीं जिन्हें राष्ट्रीय अनुसंधान और विकास परियोजनाओं के लिए अच्छी ठोस नेटवर्किंग की वास्तविक आवश्यकता थी।

70 के दशक में, रॉबर्ट काह्न और विंट सेर्फ़ नाम के दो ARPANET शोधकर्ताओं ने इसके समाधान पर काम करना शुरू किया।

1969 के अंत में, यूसीएलए में पहला ऐसा नोड स्थापित किया गया था।

दोनों वैज्ञानिकों ने एक ऐसी भाषा बनाई जिसे नेटवर्क साझा कर सकते थे, जो कंप्यूटरों को एक-दूसरे से बात करने की अनुमति देती थी।

दिसंबर 1969 तक, शिशु नेटवर्क (Infant Network, प्रारम्भिक) पर चार नोड थे, जिसे इसके पेंटागन प्रायोजक के बाद ARPANET नाम दिया गया था।

चार कंप्यूटर समर्पित हाई-स्पीड ट्रांसमिशन लाइनों पर डेटा स्थानांतरित कर सकते थे और इन्हें अन्य नोड्स से दूर से भी प्रोग्राम किया जा सकता है।

ARPANET की बदौलत वैज्ञानिक और शोधकर्ता लंबी दूरी तक एक-दूसरे की कंप्यूटर सुविधाएं साझा कर सकते हैं।

यह एक बहुत ही उपयोगी सेवा थी, क्योंकि 70 के दशक की शुरुआत में कंप्यूटर-समय कीमती था, 1971 में ARPANET में पन्द्रह नोड थे, 1972 तक, सैंतीस नोड्स और यह संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही थी।

70 के दशक के दौरान, ARPA का नेटवर्क बढ़ता गया, इसकी विकेंद्रीकृत संरचना ने विस्तार को आसान बना दिया।

मानक कॉर्पोरेट कंप्यूटर नेटवर्क के विपरीत, ARPA नेटवर्क कई अलग-अलग प्रकार की मशीनों को समायोजित कर सकता है।

जब तक व्यक्तिगत मशीनें नए, अराजक नेटवर्क की पैकेट-स्विचिंग भाषा बोल सकती थीं, तब तक उनके ब्रांड-नाम, और उनकी सामग्री, और यहां तक ​​​​कि उनका स्वामित्व भी अप्रासंगिक था।

संचार के लिए ARPA के मूल मानक को NCP, “नेटवर्क कंट्रोल प्रोटोकॉल” के रूप में जाना जाता था, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया और तकनीक उन्नत होती गई।

NCP को एक उच्च-स्तरीय, अधिक परिष्कृत मानक द्वारा प्रतिस्थापित किया गया जिसे TCP/IP के रूप में जाना जाता है।

टीसीपी, या “ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल”, संदेशों को स्रोत पर पैकेट की धाराओं में परिवर्तित करता है, फिर उन्हें गंतव्य पर संदेशों में वापस जोड़ता है।

आईपी, या “इंटरनेट प्रोटोकॉल”, एड्रेसिंग को संभालता है, यह देखते हुए कि पैकेट कई नोड्स और यहां तक ​​​​कि कई मानकों के साथ कई नेटवर्क में रूट किए जाते हैं – न केवल एआरपीए के अग्रणी एनसीपी मानक, बल्कि ईथरनेट, एफडीडीआई और एक्स.25 जैसे अन्य।

1977 की शुरुआत में, ARPANET से लिंक करने के लिए अन्य नेटवर्क द्वारा TCP/IP का उपयोग किया जा रहा था।

ARPANET स्वयं काफी सख्ती से नियंत्रित रहा, कम से कम 1983 तक, इसके बाद इसका सैन्य खंड टूट गया और MILNET बन गया,लेकिन TCP/IP ने उन सभी को लिंक कर दिया।

और अब ARPANET स्वयं धीरे-धीरे बढ़ रहा था, तेजी से जुड़ती हुई मशीनों की विशाल बढ़ती आकाशगंगा के बीच एक छोटा और पड़ोसी बनकर रह गया।

जैसे-जैसे 70 और 80 का दशक आगे बढ़ा, कई अलग-अलग सामाजिक समूहों ने खुद को शक्तिशाली कंप्यूटरों के कब्जे में पाया।

इन कंप्यूटरों को बढ़ते नेटवर्क-ऑफ-नेटवर्क से जोड़ना काफी आसान था। जैसे-जैसे TCP/IP का उपयोग अधिक सामान्य हो गया, अन्य सभी नेटवर्क इंटरनेट के डिजिटल आलिंगन में आ गए, और गड़बड़ हो गए।

चूंकि TCP/IP नामक सॉफ्टवेयर सार्वजनिक-डोमेन में था, और बुनियादी तकनीक विकेंद्रीकृत थी और अपने स्वभाव से ही अराजक (Anarchic) थी, इसलिए लोगों को इसमें घुसने और कहीं-न-कहीं जुड़ने से रोकना मुश्किल था।

सन् 29 अक्टूबर, 1969 को ARPANET ने अपना पहला संदेश, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय लॉस एंजिल्स में स्थित एक कंप्यूटर से स्टैनफोर्ड में स्थित दूसरे कंप्यूटर पर भेजा था।

इस संदेश में मौजूद शब्द “LOGIN” था, लेकिन इसने नेटवर्क को क्रैश कर दिया और संस्थान को केवल “LO” प्राप्त हुआ।

1970 के दशक में, रॉबर्ट काह्न और विंट सेर्फ़ नाम के दो ARPANET शोधकर्ताओं ने इसके समाधान पर काम करना शुरू किया।

दोनों वैज्ञानिकों ने एक ऐसी भाषा बनाई जिसे नेटवर्क साझा कर सकते थे, जो कंप्यूटरों को एक-दूसरे से बात करने की अनुमति देती थी। Internet In Hindi

यह ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (TCP) और इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) के रूप में जाना गया, ARPANET के द्वारा इसे 1 जनवरी 1983 को अपनाया गया और यहीं से मॉडर्न इंटरनेट का जन्म हुआ।

इंटरनेट कैसे चलता है? –

Internet Kya Hai, जैसा कि हमने पढ़ा कि इंटरनेट बहुत से सुपर कंप्युटर का नेटवर्क है, आज के समय में करोड़ों कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़ चुके है।

इन कंप्युटर और इनके बीच कनेक्शन बनाने वाले केबल सहित पूरे सिस्टम को ही इंटरनेट कहा जा सकता है।

आज के समय में जो भी इंटरनेट हम यूज करते है, वह 99.9% केबाल्स से होकर ट्रैवल करता है, ये केबल पूरे विश्व में एक देश से दूसरे देश, के राज्य, जिलों और गावों में स्मार्टफोन टॉवर तथा ब्रॉडबैंड के माध्यम से फैली हुई है।

इन केबल्स को ऑप्टिकल फाइबर केबल कहा जाता है, यही ऑप्टिकल फाइबर केबल हमारे कंप्यूटर, स्मार्टफोन और सर्वर के बीच कनेक्शन को बनाता है।

इस तरह हम जो कुछ भी सर्च करते है उसकी रिक्वेस्ट हमार फोन से होकर इसी ऑप्टिकल फाइबर केबल से होते हुए सर्वर तक जाती है और फिर सर्वर से उससे सांबन्धित डाटा हमारे फोन तक पहुंचता है।

इंटरनेट कैसे चलता है, इसके अंग तथा कार्यप्रणाली के बारे में विस्तार से जानने के लिए इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।

भारत में इंटरनेट की शुरुआत –

यदि भारत में इंटरनेट की शुरुआत की बात करें तो साल 1970 में एजुकेशन रिसर्च नेटवर्क (ERNET) के द्वारा की गयी थी, यह यूनाइटेड नेशंस के डेवलपमेंट प्रोग्राम और भारत सरकार के इलेक्ट्रानिक्स डिपार्ट्न्टमेंट के संयुक्त प्रोग्राम का हिस्सा था।

यह प्रोग्राम आज भी काम कर रहा है लेकिन अभी के समय में इसका एक्सेस कुछ शैक्षणिक संस्थानों और संस्थाओं (Organization) तक ही सीमित है।

इसके बाद 15th August, 1995 यानि आजादी के दिन विदेश संचार निगम लिमिटेड, के द्वारा भारत का पहला, प्राइवेट इंटरनेट एक्सेसेबल इंटरनेट सर्विस को शुरू की गयी।

इसे गेटवे इंटरनेट एक्सेस सर्विस (GIAS) के नाम से भी जाना जाता है, अपने शुरुआती दौर में यह सुविधा केवल दिल्ली, मुंबई, कलकत्ता, चेन्नई, बैंगलोर और पुणे तक ही सीमित थी।

उस दौर में विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) के रिचार्ज प्लान बहुत ही ज्यादा महंगे थे, आज की कीमतों से तुलना करें तो आम आदमी तो इसका खर्च कभी नहीं उठा सकता है।

क्योंकि हर टेक्नॉलजी अपने शुरुआती दौर में काफी महंगी ही होती है, इसलिए इंटरनेट भी उनमें से एक है, नीचे उस समय के VSNL के रिचार्ज प्लान दिए गए है, जिसे आप देख सकते है।

Internet Kya Hai
Internet Kya Hai

इन सबके बाद साल 1998 में भारत सरकार ने प्राइवेट कंपनियों को इंटरनेट के क्षेत्र में काम करने की अनुमति दे दी जिसके बाद भारत में एक इंटरनेट क्रांति आई।

हालांकि यह वो दौर था जब लोगों को इसके बारे में जानकारी होनी शुरू हो गयी थी लेकिन, इंटरनेट का प्रयोग करना अब भी महंगा ही था।

इसके बाद साल 2010 की बात करें तो इस समय तक भी इंटरनेट की कीमतें कम होते-होते 250 रुपये प्रति GB (250/GB) तक आ गयी थी, लेकिन इंटरनेट की यह कीमत भी काफी ज्यादा थी।

इस समय तक लोगों ने इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करना शुरू तो कर दिया था, लेकिन कम स्पीड और महंगे डेटा के कारण लोग इसका लिमिटेड यूज ही किया करते थे।

इन सारे बदलावों के बाद एक सबसे बड़ा बदलाव देखने को मिल जब साल 2016 में JIO ने इस क्षेत्र में कदम रखा, जिसके बाद इंटरनेट आश्चर्यजनक रूप से कुछ ही महीनों में करोड़ों लोगों के पास पहुँच गया।

जिओ के आने के कारण न सिर्फ इंटरनेट डाटा की कीमतें कम हुई बल्कि यह आम आदमी के पहुँच में भी आया।

इंटरनेट के फायदे –

कहीं से भी डेटा एक्सेस –

विश्व के किसी भी कोने में, कोई भी व्यक्ति कहीं भी बैठा हो, वह एक जगह से दूसरे जगह पर जानकारीयों को पलक झपकते ही भेज सकता है।

चाहे वह वॉयस कॉल हो, विडिओ कॉल, ईमेल, या किसी भी प्रकार की फाइल हो इंटरनेट ने डिजिटल चीजों को भेजने की जो सुविधा दी है, उसके हमारे जीवन को एकदम से बदल के रख दिया है।

ऑनलाइन ऑफिस –

जो भी काम कंप्युटर की मदद से किये जाते है, वो सारे कार्य ऑनलाइन इंटरनेट की मदद से किये जा सकते है, आज के समय में भले ही लोग एक दूसरे से कितना भी दूर क्यों न हो वे सारे काम एक साथ बैठकर पूरा कर सकते है।

2020 में कोविड के कारण लगभग सारे बिजनेस ठप हो गए थे, लेकिन अनलाइन बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है, जो इस दौरान ज्यादा पॉपुलर हुआ।

आज के समय में इंटरनेट ने “वर्क फ्रॉम होम” की एक अवधारणा को जन्म दिया है जिसने एक नई इंडस्ट्री को जन्म दिया।

ऑनलाइन शॉपिंग –

आज के समय में ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट की मदद से न सिर्फ आप सामान खरीद सकते हैं बल्कि आप चाहें तो अपने परिवार और रिश्तेदारों को गिफ्ट भी भेज सकते हैं, ऑनलाइन खरीददारी के मामले में इसने हमारे अनुभव को पूरी तरह से बदल के रख दिया है।

लाखों करोड़ की अनलाइन इंडस्ट्री आज के समय में केवल इंटरनेट की वजह से ही स्थापित हुई है, आज इसकी वजह से लाखों लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिल रहा है। Internet In Hindi

शिक्षा –

पहले हमें कोई चीज सिखनी होती थी तो उसके किसी न किसी संस्थान में जाना पड़ता था, इतना ही नहीं वहाँ पर एक बार में लोगों को सिखाने की एक लिमिट भी होती थी, इंटरनेट (Internet Kya Hai) ने इन सारी समस्याओं का हल दिया है।

अब घर बैठे हजारों किलोमीटर दूर किसी यूनीवर्सिटी से आज के समय में रोजगार परक कोर्स किया जा सकता है, जहां सभी के लिए एडमिशन ले पाना संभव नहीं था।

इंटरनेट का पुराना नाम क्या है?

पहले इंटरनेट को ARPANET के रूप में जाना जाता था, जो कि 1969 में उन्नत अनुसंधान परियोजनाओं एजेंसी (ARPA) के द्वारा ऑनलाइन लाया गया था।

इंटरनेट एक्सप्लोरर क्या है?

इंटरनेट एक्स्प्लोरर माइक्रोसोफ्ट का वेब ब्राउज़र है, लेकिन अब इस वेब ब्राउजर कि जगह “Edge” ने ले ली है।

इंटरनेट क्या है ?

Internet In Hindi, इंटरनेट, दुनियाभर में मौजूद कंप्यूटरों का एक विश्वव्यापी नेटवर्क है, हिंदी में इसे “अंतरजाल” और अंग्रेजी में “Internet” कहा जाता है, इस नेटवर्क में सर्वर, सुपर कंप्यूटर और आपका स्मार्टफोन या कंप्यूटर सभी मिलकर एक कनेक्शन बनाते है, जिसके बाद डाटा एक जगह से दूसरे जगह ट्रैवल कर पता है।

Summary –

निश्चित ही इंटरनेट आज के समय में मानव जीवन को पूरी तरह बदल के रख दिया है, आज यह हमारे जीवन को इतना प्रभावित करता है कि बिना इसके जीवन की कल्पना करना मुश्किल है।

तो दोस्तों, इंटरनेट क्या है Internet Kya Hai, और इंटरनेट का इतिहास हिंदी में, इस टॉपिक के बारे में हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं, अगर आपके पास इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में लिखें और इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Thank You 🙂

A Student 📚, Digital Content Creator, Passion in Photography. इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, फाइनेंस और पैसे कमाने के तरीके से संबंधित टॉपिक्स पर जानकारियाँ मिलती रहेंगी, हमारे साथ जुड़ें - यूट्यूब, फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर

Leave a Comment

Latest Posts

Home     About Us    Contact Us    Privecy Policy    T&C    Disclaimer    DMCA