Pin Code Kya Hai【पिन कोड क्या है】पिन कोड की पूरी जानकारी

Pin Code Kya Hai, सम्पूर्ण भारत में कहीं भी ऑनलाइन सामान ऑर्डर करने या किसी पार्सल को भेजने के लिए एड्रेस सबसे जरूरी चीज होता है लेकिन एड्रेस के साथ पिन कोड भी लगाना अनिवार्य होता है तभी सामान एक जगह से दूसरे जगह पहुँच पता है।

एड्रेस के साथ पिनकोड ही है जो हमारे सामान को एक जगह से दूसरे जगह तक आसानी से पहुंचाने में मदद करता है।

Hello Dosto, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है पिन कोड के बारे में पिन कोड क्या है Pin Code Kya Hai, इसका क्या काम है और यह कैसे काम करता है, तथा इससे जुड़े कुछ फैक्ट्स के बारे में।

Pin Code Kya Hai –

Pin Code Kya Hota Hai, पिन कोड या डाक सूचक संख्या या पोस्टल इंडेक्स नंबर (लघुरूप: पिन नंबर) एक ऐसा नंबर सिस्टम है, जिसके माध्यम से भारत के सभी विभिन्न स्थानों को एक विशिष्ट सांख्यिक पहचान प्रदान की जाती है।

ये विशिष्ट संख्या डाक के द्वारा भेजी जानें वाली हर प्रकार की सामग्री को सही गन्तव्य तक पहुंचने में मददगार है।

एक निश्चित क्षेत्र तक सम्पूर्ण भारत को कई भागों में बांटा गया है और सभी जगहों को एक विशिष्ट नंबर दिया गया है, जिससे इन सभी जगहों तक किसी भी पार्सल या डाक को पहुंचाया जा सके।

पिन कोड में अंकों की संख्या होती है और इन्हें भारतीय डाक विभाग द्वारा छांटा जाता है।

भारत में पिन कोड सिस्टम को 15 अगस्त 1972 को केन्द्रीय संचार मंत्रालय के एक अतिरिक्त सचिव “श्रीराम भीकाजी वेलंकर” के द्वारा पेश किया गया था।

Pin Code Kya Hai
Pin Code Kya Hai पिन कोड क्या है

प्रारंभ में इसका प्रयोग डाक और तार भेजने के लिए किया जाता था, लेकिन आज के समय में पिन कोड का प्रयोग बहुत सि इंडस्ट्रीज में किया जाता है।

ऑनलाइन शॉपिंग, ई कॉमर्स जैसे क्षेत्र में आज पिन कोड का बहुत व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता है।

बिना पिन कोड के, किसी कंपनी के द्वारा कोई भी डाक या पार्सल भेज पाना बहुत मुश्किल या लगभग नामुमकिन है, अड्रेस के साथ पिन कोड का प्रयोग करना आवश्यक है।

ZIP Code Kya Hai –

पिन कोड की तरह ही ज़िप कोड भी एक युनीक संख्या होती है, इससे किसी विशेष स्थान की पहचान की जाती है।

ज़िप कोड के माध्यम से किसी पार्सल के अड्रेस का सटीक पता लगाया जा सकता है, ज़िप कोड सिस्टम का प्रयोग भारत में नहीं बल्कि अमेरिका जैसे देशों में किया जाता है।

ज़िप कोड के बारे में और ज्यादा जानने के लिए इस आर्टिकल को पढ़ें – ZIp Code Kya Hota Hai

पिन कोड की जरूरत क्यों पड़ी?-

बहुत सी जगहों के नाम एक समान होते है, इसलिए उन्हें अलग-अलग पहचानना मुश्किल हो जाता है, खासकर तब जब किसी व्यक्ति को उस जगह के बारे में जानकारी न हो।

कई बार अलग-अलग भाषाओं में या बोलियों में एक ही जगह के नाम अलग-अलग हो जाते है इसलिए सही पते तक सामान पहुँचाना एक मुश्किल काम हो जाता है।

बिना पिन कोड के किसी एक क्षेत्र के सामान को अलग-अलग करना और उसे फिर स्पेसिफिक क्षेत्र के लिए छांटना मुश्किल हो जाता है।

पिन कोड के होने से पोस्टमैन का काम भी आसान हो जाता है, कि कौन सा पार्सल किस क्षेत्र के अंतर्गत डिलीवर करना है, Pin Code Kya Hai

भारतीय डाक विभाग –

भारतीय डाक विभाग, भारत सरकार द्वारा चलाया जाता है, इस डाक प्रणाली को भारत के डाकघर के रूप में जाना जाता है जो भारत सरकार के संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आता है।

भारत को 22 डाक सर्किलों में विभाजित किया गया है और प्रत्येक डाक सर्किल को मुख्य पोस्टमास्टर जनरल द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

भारत के विभिन्न राज्यों में 1,55,000 से अधिक शाखाएँ है, ग्रामीण क्षेत्रों में इसका 89% कवरेज है, भारतीय डाक विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण कार्य करने में लगा हुआ है क्योंकि वे एक शहर या गाँव से दूसरे शहर के बीच एक पुल के रूप में कार्य करते हैं।

मेल सेवाओं के अलावा, वे ग्रामीण आबादी को विभिन्न बैंकिंग सुविधाएं भी प्रदान करते हैं क्योंकि कुछ ग्रामीण क्षेत्र अभी भी उचित बैंकिंग सुविधाएं प्राप्त करने में पीछे हैं।

देश की वर्तमान डाक सेवा लगभग 150 वर्ष पुरानी है, और भारत 1854 में टिकट बनाने वाला पहला देश था।

कुछ समय बाद, डाक सेवाओं को केंद्रीकृत प्रबंधन के तहत खरीदा गया।

इंडिया पोस्ट के तहत प्रदान की जाने वाली डाक सेवाओं में Mail services, Financial services और Allied postal services जैसे – Aadhar Card, Passport Facilities, International Money Transfer, Direct Post, e-Bill Post, Greeting Post, Media Post, Speed Post जैसी सुविधाएं दी जाती है और इन सके सही ढंग से काम करने में पिन कोड का एक बाद योगदान है।

पिन कोड के अंकों का मतलब –

6 अंकों के पिन कोड में सभी अंकों का एक मतलब होता है, जिससे यह देखकर ही पता लगाया जा सकता है कि यह पिन कोड किस जगह का है।

भारत में 9 पिन क्षेत्र बनाए गए हैं, पिनकोड का पहला अंक भारत (देश) के क्षेत्र को दर्शाता है।

शुरुआत के 2 अंक मिलकर इस क्षेत्र में उपस्थित छोटे-छोटे उपक्षेत्र या डाक वृतों में से किसी एक डाक वृत को दर्शातें हैं।

इसके बाद आता है तीसरा नंबर जो कि डिस्ट्रिक्ट को दर्शाता है, इस तरह से पहले 3 अंक मिलकर जोन, सब जोन और फिर डिस्ट्रिक्ट को निर्धारित करते है।

और अंतिम के 3 अंक पार्सल को पहुंचाने वाले डाकखाने का प्रतिनिधित्व करते हैं।

और उस डाकखाने के अंतर्गत जीतने भी पिनकोड है वो किसी न किसी क्षेत्र को निर्धारित किये गए है।

Pin Code Kya Hai
Pin Code Kya Hai

इस तरह लास्ट के तीन अंकों को देखकर यह निर्धारित किया जाता है कि इस पोस्ट ऑफिस से ये पार्सल किस गाँव, कस्बे या क्षेत्र में डिलीवर करना है।

इस तरह पिन कोड की यह सांख्यिक कूट भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार डाक को छांटने का कार्य अत्यन्त सरल बना देती है।

इसे आसान शब्दों में समझा जाए तो –

  • पिन कोड के 6 अंकों में से पहले दो अंक, किसी Zone या Region को इंडिकेट करते है।
  • इसके बाद दूसरा अंक, Sub-Zone को इंडिकेट करता है।
  • पिन कोड का तीसरा अंक, शुरू के दो अंकों को कंबाइन करके यानि पहले के 2 डिजिट के साथ मिलकर Sorting District को इंडिकेट करते है।
  • आखिरी के 3 अंक इंडिविजुअल पोस्ट ऑफिस की जानकारी बताते है।

Sorting District क्या है? –

किसी भी पिनकोड के पहले तीन अंकों को जब एक साथ मिलाया जाता है, तब यह एक Specific Geographical Region को दर्शाते हैं जिसेदूसरे शब्दों में Sorting District भी कहा जाता है।

Sorting District, किसी भी सब-जोन के, किसी जिले के Main Post Office में एक हेडक्वार्टर होता है, जहां पर पार्सल को किस जिले में भेजना होता है, यह निर्धारित किया जाता है।

Shorting District को इसलिए Shorting Office भी कहा जाता है।

एक राज्य (या सब-जोन) में एक ये उससे ज्यादा Sorting Districts भी मौजूद हो सकते हैं, हालांकि ये इस बात पर निर्भर करता है की वहां पर कितनी मात्रा में पार्सल पहुंचते है।

Note – Shorting District, का तरीका, आर्मी के functional zone के केस में नहीं लागू होता है।

Service Route क्या है? –

पिनकोड का चौथा अंक Service route को दर्शाता है, यह अंक shorting district से Delivery Office को निर्धारित करता है, कि कौन स पार्सल किस नजदीकी Delivery Office पर भेजना है।

एक Shorting District में एक Delivery Office Located होती है और जो डिलीवरी ऑफिस Shorting District के नजदीक मौजूद होते है, उनके लिए यह संख्या ‘0’ शून्य होती है।

Delivery Office क्या है? –

पिन कोड के अंतिम के दो अंक डिलीवरी ऑफिस को दर्शाते है, इस अंक की शुरुआत 01 से होती है, क्योंकि जो डिलीवरी ऑफिस Shorting Office के एकदम नजदीक होते है उनके लिए यह संख्या शून्य होती है।

दिलीवती ऑफिस की नंबर पद्धति एक निर्धारित क्रम में की जाती है, नजदीक के ऑफिस कम संख्या से तथा दूसी के साथ नंबर भी बढ़ते जाते है और नए डिलीवरी ऑफिस को सबसे ऊंची सख्या निर्धारित की जाती है।

यदि किसी एक डिलीवरी ऑफिस में पार्सल की मात्रा बहुत ज्यादा सेंड और रिसीव होती है, जिसे की वो ऑफिस अकेले संभाल नहीं पाते हैं।

तब एक नया डिलीवरी ऑफिस बना दिया जाता है और अगली उपलब्ध PIN उस ऑफिस को निर्धारित कर दी जाती है।

इस स्थिति में ये दोनों ही डिलीवरी ऑफिस जो की अगल-बगल में मौजूद होते हैं उनके पहले के चार अंक एक समान होते हैं।

भारत के 9 पिन जोन –

पिन_कोड_1दिल्ली, हरियाणा , पंजाब, हिमाचल प्रदेश , जम्मू और कश्मीर
पिन कोड 2उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड
पिन कोड 3राजस्थान, गुजरात, दमन और दीव, दादर और नगर हवेली
पिन कोड 4छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गोवा
पिन कोड 5आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, यनाम (पुदुचेरी का एक जिला)
पिन कोड 6केरल, तमिनलाडु, पुदुचेरी (यनाम जिले के अलावा), लक्षद्वीप
पिन कोड 7पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, असम, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा, मेघालय, अंडमान और निकोबार दीप समूह
पिन कोड 8बिहार, झारखण्ड
पिन कोड 9सैन्य डाकखाना (एपीओ) और क्षेत्र डाकखाना (एफपीओ)

पिनकोड के सब-जोन –

पिन कोड के शुरुआती दो अंक मिलकर सबजोन को बताते है, सबजोन अलग-अलग राज्यों के नाम है, जो कि इससे निर्धारित किये जाते है।

Pin Code Kya Hai, भारत के सभी राज्यों के सब जोन कुछ इस प्रकार है –

शुरुआती 2 अंक ISO 3166-2: INनिर्धारित राज्य
11DLदिल्ली
12 और 13HRहरियाणा
14, 15PBपंजाब
16CHचंडीगढ़
17HPहिमाचल प्रदेश
18 से 19JK, LAजम्मू और कश्मीर
20 से 28UP, UTउत्तर प्रदेश, उत्तराखंड
30 से 34RJराजस्थान
396210DDदमन और दीव
36 से 39GJगुजरात
403GAगोवा
40 से 44MHमहाराष्ट्र
45 से 48MPमध्य प्रदेश
49CTछत्तीसगढ़
50TGतेलंगाना
51 से 53APआंध्र प्रदेश
56 से 59KAकर्नाटक
605PYपुडुचेरी
60 से 66TNतमिलनाडु
682LDलक्षद्वीप
67 से 69KLकेरल
737SKसिक्किम
744ANअंडमान और निकोबार आइलैंड
70 से 74WBपश्चिम बंगाल
75 से 77ORउड़ीसा
78ASअसम
790-792ARअरुणांचाल प्रदेश
793-794MLमेघालय
795MNमणिपुर
796MZमिजोरम
797-798NLनागालैंड
799TRत्रिपुरा
80 से 85BR, JHबिहार और झारखण्ड
90-99APSआर्मी पोस्टल सर्विस

पिन कोड कैसे ढूंढें –

अपने जगह का पिन कोड पता करने के लिए नीचे दिए गए इन स्टेप्स को फॉलो करके आसानी से पिन कोड खोज सकते है –

सबसे पहले India Post के लिंक पर क्लिक करें, इसके बाद आप नीचे दिए गए इमेज की तरह वेबपेज पर पहुँच जाएंगे।

Pin Code Kya Hai
Pin Code Kya Hai

इसके बाद इस पेज पर आपको कुछ ऑप्शन दिखेंगे जिसको भरना होता है.. जैसे – State / Union Teritory फिर City / District या पोस्ट ऑफिस नेम भरने के बाद नीचे दिए गए कैप्चा को भरने के बाद Search बटन पर क्लिक करें।

इसके बाद आपके द्वारा दिए गए डेटा के अनुसार जो भी पिन कोड उससे संबंधित होगा वह आपको रिजल्ट के रूप में मिल जाएगा।

पिन कोड क्या है?

Pin Code Kya Hai, भारत में, पोस्टल इंडेक्स नंबर (पिन) को आमतौर पर पिन कोड के रूप में जाना जाता है। यह एक कोड है जो मेल को सॉर्ट करने के लिए इंडिया पोस्ट द्वारा उपयोग की जाने वाली पोस्टल कोड प्रणाली के पोस्ट ऑफिस नंबर में दिखाई देता है।

मैं अपना पिन कोड कैसे पता करूं?

भारत के किसी भी स्थान का पिन कोड खोजने के लिए India Post की वेबसाईट पर जाकर अपना पिन कोड पा सकते हैं, यहाँ आपको सारी जानकारी दर्ज करनी होगी और अंत में सबमिट पर क्लिक करने के बाद, पिन कोड मिल जाएगा।

पिन कोड का उद्देश्य क्या है?

किसी भी डाक या पार्सल को मैन्युअल रूप से छांटने और सही स्थान पर पहुंचाने में सहायता के लिए देश में पिन कोड सिस्टम की शुरुआत कि गई थी, पिन कोड एक जैसे भौगोलिक नामों, विभिन्न भाषाओं और लोगों के गलत पतों के कारण होने वाली अस्पष्टता को खत्म करने में भी मददगार है।

भारत में पिन कोड का प्रयोग कब शुरू हुआ?

भारत में पिन कोड सिस्टम को 15 अगस्त 1972 को केन्द्रीय संचार मंत्रालय के एक अतिरिक्त सचिव “श्रीराम भीकाजी वेलंकर” के द्वारा पेश किया गया था।

भारत में कुल कितने पिन कोड हैं?

वर्तमान में भारत में सेना डाक सेवा को छोड़कर 154,725 डाकघरों में कुल 19,101 पिन कोड बनाए जा चुके है।

Pin Code In Hindi, पिन कोड के बारे में विडिओ के रूप में समझने के लिए इस यूट्यूब विडिओ को देख सकते है।

Summary –

तो दोस्तों आशा करता हूँ, पिन कोड क्या है, Pin Code Kya Hai इसके बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गई होगी, यदि अभी भी आपके पास इस टॉपिक से जुड़ा कोई सवाल है तो उसे कमेंट बॉक्स में लिखना न भूलें, Thank You 🙂

A Student 📚, Digital Content Creator, Passion in Photography. इस ब्लॉग पर आपको टेक्नॉलजी, फाइनेंस और पैसे कमाने के तरीके से संबंधित टॉपिक्स पर जानकारियाँ मिलती रहेंगी, हमारे साथ जुड़ें - यूट्यूब, फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर

Leave a Comment

Latest Posts

Home     About Us    Contact Us    Privecy Policy    T&C    Disclaimer    DMCA